July 22, 2024

Visitor Place of India

Tourist Places Of India, Religious Places, Astrology, Historical Places, Indian Festivals And Culture News In Hindi

गुवाहाटी के इन मशहूर मंदिरों में पहुंचते हैं लाखों लोग, जानें इनके बारे में !

गुवाहाटी के इन मशहूर मंदिरों में पहुंचते हैं लाखों लोग, जानें इनके बारे में !

पूर्वोत्तर राज्य असम का सबसे बड़ा शहर है गुवाहाटी जो पर्यटन के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण माना जाता हैं। यह शहर चारों ओर से छोटी-छोटी पहाड़ियों से घिरा हुआ है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता से पर्यटकों को आकर्षित करता है। गुवाहाटी के पर्यटन स्थल अपनी सुंदरता और इतिहास के लिए जाने जाते हैं। इन्हीं पर्यटन स्थलों में से कुछ हैं यहां के मंदिर। जी हां, यहां कुछ ऐसे मंदिर हैं जो प्राकृतिक, ऐतिहासिक और धार्मिक तीनों ही दृष्टि से महत्वपूर्ण माने जाते हैं और इनके दर्शन करने हर साल लाखों लोग पहुंचते हैं। आज हम आपको गुवाहाटी के इन्हीं प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं-

कामाख्या मंदिर

कामाख्या मंदिर गुवाहाटी में घूमने के लिए सबसे लोकप्रिय स्थानों में से एक है। यह 51 शक्तिपीठों में से एक है और इसे महत्वपूर्ण हिंदू तीर्थ स्थान के रूप में देखा जाता है। इस मंदिर की विशेषता यह है कि यहां पर एक अनोखा पर्व अम्बुवाची पर्व मनाया जाता है। यह अम्बुवाची पर्व भगवती सती का रजस्वला पर्व होता है। यह एक प्रचलित धारणा है कि देवी कामाख्या मासिक धर्म चक्र के माध्यम से तीन दिनों के लिए गुजरती है। इसलिए इन तीन दिनों के दौरान, कामाख्या मंदिर के द्वार श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिए जाते हैं। यह मंदिर न केवल गुवाहाटी में, बल्कि यह स्थान असम के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है।

सुकरेश्वर मंदिर

49 अवलोकन फोटो आकर्षण होटल गुवाहाटी आने वाले पर्यटकों के बीच सुकरेश्वर मंदिर सबसे ज्यादा घूमा जाने वाला पर्यटन स्थल है। 1744 में अहोम राजा प्रामत्ता सिंह द्वारा बनवाया गया यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर में राजा राजेश्वर सिंह (1744-1751) ने भी योगदान दिया था और इस मंदिर का असम के इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान है। गुवाहाटी के एक महत्वपूर्ण स्थान पानबाजार के पास ब्रह्मपुत्र नदी के दक्षिणी किनारे पर स्थित इटाखुली पहाड़ी पर बना यह मंदिर शिव पंथ को बढ़ावा देता है। ब्रह्मपुत्र नदी के पास होने के कारण आप यहां से नदी के क्षितिज में सूर्यास्त का विहंग नजारा देख सकते हैं। खास बात यह है कि यह व्यस्क और बूढ़ों के बीच बराबर रूप से लोकप्रिय है। साथ ही पत्थर से बने इस मंदिर में आप अहोम वंश के समय के खास वास्तुशिल्प की झलक भी देख सकते हैं।

उग्रतारा मंदिर

उग्रतारा मंदिर, जिसे उग्रो तारा मंदिर भी कहा जाता है, देवी काली को समर्पित है, यह मंदिर जोर पुखुरी, उज़ान बाज़ार के पश्चिमी किनारे पर स्थित है। उग्रतारा मंदिर असम के सबसे महत्वपूर्ण तीर्थस्थलों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि देवी उग्र तारा, माता पार्वती का दूसरा रूप हैं। मंदिर के गर्भगृह में देवी की मूर्ति नहीं है। इसके बजाय, पानी से युक्त एक छोटा सा गड्ढा देवी के रूप में माना जाता है और उसकी पूजा की जाती है। बौद्ध धर्म से संबंधित एक पौराणिक कथा भी है और इस प्रकार यह मंदिर बौद्धों द्वारा भी पूजनीय है। यह 1725 ई. में अहोम राजा शिव सिंह द्वारा निर्मित एक महत्वपूर्ण शक्ति मंदिर है।

भुवनेश्वरी मंदिर

गुवाहाटी का यह शानदार दर्शनीय स्थल भुवनेश्वरी मंदिर देवी भुवनेश्वरी को समर्पित किया गया है। यह मंदिर गुवाहाटी की निलाचल पहाड़ियों के उपर अधिक ऊंचाई पर स्थित है जोकि यहां के कामाख्या देवी मंदिर से थोड़ी अधिक है। यह सफेद रंग का खूबसूरत मंदिर धार्मिक तीर्थयात्रियों के बीच एक प्रमुख आकर्षण है। भुवनेश्वरी मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको नीचे बस स्टैंड से 20 मिनिट पैदल यात्रा करना पड़ेगा। यह गुवाहाटी में घूमने के लिए शीर्ष स्थानों में से एक है।

उमानंद मंदिर

उमानंद मंदिर सबसे प्रसिद्ध मंदिर है और गुवाहाटी शहर में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है। यह हिंदू भगवान, शिव को समर्पित है और पीकॉक आइलैंड में स्थित है, जो ब्रह्मपुत्र नदी से घिरा है। एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थान होने के नाते, आप हमेशा भक्तों को चारों ओर पाएंगे, लेकिन शिवरात्रि के त्योहार के दौरान एक विशेष आकर्षण है। यह मंदिर 1694 ई में राजा गदाधर सिंह द्वारा बनवाया गया था। हालांकि 1897 में, भूकंप के कारण मंदिर का कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया था, जिसका बाद में एक स्थानीय व्यापारी द्वारा इसका पुनर्निर्माण किया गया था।

नवग्रह मंदिर

नवग्रह का अर्थ है ‘नौ ग्रह’। नवग्रह मंदिर चित्रसाल पहाड़ियों पर स्थित है। नौ ग्रहों को इंगित करने के लिए, मंदिर के अंदर नौ शिवलिंग हैं। प्रत्येक शिवलिंग अलग-अलग रंग के कपड़ों से ढका हुआ है, जो 9 ग्रहों का प्रतिनिधित्व करता है। ऐसा माना जाता है कि नवग्रह मंदिर 18वीं शताब्दी में अहोम राजा राजेश्वर सिंह और बाद में उनके पुत्र रुद्र सिंह या सुखरंगफा के समय में बनाया गया था। नवग्रह मंदिर के परिसर में एक और अतिरिक्त आकर्षण सिलपुखुरी है। यह एक तालाब है जो हमेशा भरा रहता है।

इस्कॉन मंदिर

इस्कॉन मंदिर गुवाहाटी का सबसे शानदार दर्शनीय स्थलों में से एक है और इसकी स्थापना 1966 में गुवाहाटी का न्यूयॉर्क शहर में किया गया है। यह मंदिर को इस्कॉन इंटरनेशनल सोसायटी फॉर द कृष्णा चेतना के द्वारा स्थापित किया गया है। इस मंदिर का खासियत बात यह है की इसकी मुख्य मान्यता श्री मद भागवत गीता से संबधित है। इस्कॉन मंदिर हरे भरे पेड़ पौधे से घेरा हुआ है जो इस्कॉन मंदिर का सुंदरता को और ज़्यादा बढ़ा देता है।