July 10, 2024

Visitor Place of India

Tourist Places Of India, Religious Places, Astrology, Historical Places, Indian Festivals And Culture News In Hindi

Raksha Bandhan 2022 Date: 11 या 12 अगस्त ? किस तारीख को कितनी देर है राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, जान लें !

Raksha Bandhan 2022 Date: 11 या 12 अगस्त ? किस तारीख को कितनी देर है राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, जान लें !

रक्षाबंधन 2022 तारीख: सावन पूर्णिमा तिथि दो दिन पड़ने और भद्रा के कारण इस बार रक्षाबंधन के त्योहार की तारीख को लेकर लोगों में संशय है. दो दिन पूर्णिमा तिथि होने के बाद भी रक्षाबंधन के लिए शुभ मुहूर्त का समय भी बहुत कम है. ऐसे में जान लें रक्षाबंधन 2022 की सही तारीख और राखी बांधने का शुभ मुहूर्त क्या है?

रक्षा बंधन का शुभ मुहूर्त सिर्फ 22 मिनट का (Raksha Bandhan 2022 Date Time)

  • रक्षा बन्धन बृहस्पतिवार, अगस्त 11, 2022 को
  • रक्षा बन्धन के लिये प्रदोष काल का मुहूर्त – 08:51 रात से 09:13 रात
  • कुल अवधि – 00 घण्टे 22 मिनट्स
  • रक्षा बन्धन भद्रा अन्त समय – 08:51 रात
  • रक्षा बन्धन भद्रा पूंछ – 05:17 शाम से 06:18 शाम
  • रक्षा बन्धन भद्रा मुख – 06:18 शाम से 08:00 रात
  • पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ – अगस्त 11, 2022 को 10:38 बजे सुबह
  • पूर्णिमा तिथि समाप्त – अगस्त 12, 2022 को 07:05 बजे सुबह
  • 11 अगस्त को भद्रा समाप्त होने के बाद बांधी जाएगी राखी

हृषिकेश पंचांग के अनुसार 11 अगस्त (गुरुवार) की रात 08:25 बजे भद्रा की समाप्ति के बाद राखी बांधी जायेगी. वहीं, बनारसी पंचांग के मुताबिक 11 अगस्त की रात लगभग साढ़े आठ बजे भद्रा के खत्म होने से लेकर अगले दिन शुक्रवार को सुबह 07:16 बजे तक पूर्णिमा तिथि की उपस्थिति में रक्षाबंधन का शुभ कार्य किया जायेगा. वहीं, मिथिला पंचांग के आधार पर 12 अगस्त (शुक्रवार) को बहन अपने भाई को राखी बांधेगी. शास्त्रीय मान्यता के अनुसार भद्रारहित पूर्णिमा में दिन-रात किसी भी समय राखी बांधी जा सकती है.

भद्रारहित काल में राखी बांधने से सौभाग्य में बढ़ोतरी होती है

ज्योतिषाचार्य पंडित राकेश झा ने बताया कि सावन शुक्ल पूर्णिमा को रक्षाबंधन पर ग्रह-गोचरों का अद्भुत संयोग बना है. 11 अगस्त को व्रत की पूर्णिमा के दिन पूरे दिन सिद्ध योग के साथ श्रवण नक्षत्र रहेगा. फिर स्नान-दान की पूर्णिमा 12 अगस्त को धनिष्ठा नक्षत्र के साथ सौभाग्य योग एवं सिद्ध योग भी विद्यमान रहेंगे. इस प्रकार सावन की पूर्णिमा पर अद्भुत संयोग का निर्माण हो रहा है. इस उत्तम संयोग में राखी बांधने से ऐश्वर्य और सौभाग्य की वृद्धि होती है. शास्त्रों में भद्रारहित काल में ही राखी बांधने का प्रचलन है. भद्रारहित काल में राखी बांधने से सौभाग्य में बढ़ोतरी होती है.

भद्रा काल में नहीं बांधी जाती है भाई की कलाई पर राखी

आचार्य झा ने पंचांगों के हवाले से बताया कि भद्रा काल में राखी बांधना अशुभ माना जाता है. इसके अलावा अन्य कोई भी शुभ या मांगलिक कार्य भद्रा में करना वर्जित है. इससे अशुभ फल की प्राप्ति होती है. पौराणिक कथा के अनुसार भद्रा भगवान सूर्यदेव की पुत्री और शनिदेव की बहन है. जिस तरह से शनि का स्वभाव क्रूर और क्रोधी है, उसी प्रकार से भद्रा का भी है. इस वजह से इस समय शुभ कार्य वर्जित माने जाते हैं.