July 22, 2024

Visitor Place of India

Tourist Places Of India, Religious Places, Astrology, Historical Places, Indian Festivals And Culture News In Hindi

Noida twin tower demolished: नोएडा ट्विन टावर 9 सेकेंड में जोरदार धमाके के साथ पलक झपकते ही जमींदोज, चारों तरफ धूल ही धूल !

Noida twin tower demolished: नोएडा ट्विन टावर 9 सेकेंड में जोरदार धमाके के साथ पलक झपकते ही जमींदोज, चारों तरफ धूल ही धूल !

नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी इमारत धवस्त, नोएडा ट्विन टावर 9 सेकेंड में जोरदार धमाके के साथ पलक झपकते ही जमींदोज। अनुमान के मुताबिक 13 साल में बनी यह इमारत करीब 9 से 10 सेकेंड के समय में ढह गई। जैसे ही इमारत ढही, चारों तरफ सिर्फ मलबे का धुंआ ही नजर आ रहा था। जब ट्विन टावर्स को नीचे लाया गया तो यहां मौजूद लोगों ने जोरदार धमाका सुना। लोगों ने धरती को कांपते हुए भी महसूस किया। देखते ही देखते धुएं का गुबार पूरे इलाके में फैल गया। नोएडा के सुपरटेक ट्विन टावरों के विध्वंस के बाद रविवार को बिल्डर और नोएडा प्राधिकरण के खिलाफ वर्षों की अदालती लड़ाई का समापन हुआ।

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर आज दोपहर 2:30 बजे ये दोनों टॉवर जमींदोज हो गए. इस काम में मुंबई की कंपनी एडिफिस इंजीनियरिंग और दक्षिण अफ्रीकी सहयोगी जेट डिमोलिशन को लगाया गया था. 32 मंजिला एपेक्स (100 मीटर) व 29 मंजिला सियान (97 मीटर) टॉवर में 3700 किलोग्राम विस्फोटक लगाकर रिमोट के जरिए विस्फोट कराया गया. विस्फोट के दौरान एहतियात के तौर पर आसपास की सड़कों को बंद कर दिया गया था.

ताजा अपडेट के मुताबिक, ट्विन टावर गिराए जाने से किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उठाए गए सभी कदम ठीक बैठ.

धूल को कम करने की कोशिश

ट्विन टावर में धमाका होते ही पूरी बिल्डिंग पलक झपकते ही नीचे गिर गई. लेकिन धूल का गुबार हर तरफ फैल गया. फिलहाल धूल को कम करने का काम शुरू हो चुका है. इसके लिए पहले से तैनात की गई स्मोक गन्स का सहारा लिया जा रहा है. इसके अलावा पानी का छिड़काव भी किया जा रहा है.

सुपरटेक बिल्डर को सेक्टर-93ए में 23 दिसंबर 2004 को एमरॉल्ड कोर्ट के नाम पर भूखंड आवंटित हुआ, जिसमें 14 टाॅवरों का नक्शा पास हुआ. इसके बाद योजना में 3 बार संशोधन हुआ और बिल्डर को 2 नए टाॅवरों के निर्माण की मंजूरी दे दी गई. ये दोनों टाॅवर ग्रीन पार्क, चिल्ड्रन पार्क और 2 मंजिला कमर्शियल कॉम्प्लेक्स की जमीन पर बनाए गए, जिन्हें आज ट्विन टाॅवर्स के नाम से जाना जाता है.

ट्विन टॉवरों के निर्माण में कानून का जमकर उल्लंघन होने के आरोप साबित होने पर 31 अगस्त 2021 को सुप्रीम कोर्ट ने इन्हें 30 नवंबर, 2021 तक गिराने और खरीदारों को 12 प्रतिशत ब्याज के साथ पैसे लौटाने का आदेश दिया था.

क्विक रिस्पांस टीम मौके पर पहुंची

स्पॉट पर सी इन डी वेस्ट उठाने के लिए क्विक रिस्पांस टीम पुहंच गई है. टीम को उम्मीद है कि 1 घंटे के अंदर आस पास रोड का सारा कंस्ट्रक्शन वेस्ट क्लियर कर दिया जाएगा.