July 14, 2024

Visitor Place of India

Tourist Places Of India, Religious Places, Astrology, Historical Places, Indian Festivals And Culture News In Hindi

चाणक्य नीति: भूलकर भी न करें इन लोगों की मदद, नहीं तो आ जाएगा आपके जीवन में भूचाल !

चाणक्य नीति: भूलकर भी न करें इन लोगों की मदद, नहीं तो आ जाएगा आपके जीवन में भूचाल !

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्‍य के अनुसार अगर आप अपने जीवन को खुशहाल बनाना चाहते हैं तो भूलर भी इन लोगों की मदद न करें। चाणक्य नीति में सफल जीवन जीने के ऐसे सूत्र बताए गए हैं, जो आपके बहुत काम आएंगे। खासकर सही और गलत व्यक्ति की पहचान करने में आचार्य चाणक्य की नीतियां आपको नुकसान से बचाएंगी। आज हम चाणक्‍य नीति की वो बातें जानते हैं जो आपको गलत लोगों की संगत से बचाएंगी और आपकी जिंदगी को नर्क होने से भी बचाएंगी. इसके लिए जरूरी है कि कुछ खास तरह के लोगों से दूर रहें और उनकी मदद करने की कोशिश कभी न करें.

इन लोगों के साथ नेकी करना खुद पर पड़ेगा भारी

आचार्य चाणक्‍य ने अपने नीति शास्‍त्र चाणक्य नीति में एक श्‍लोक लिखा है.

मूर्खाशिष्योपदेशेन दुष्टास्त्रीभरणेन च.
दु:खिते सम्प्रयोगेण पंडितोऽप्यवसीदति.

यानी कि जीवन में कभी भी मूर्ख व्‍यक्ति, दुष्‍ट महिला और हमेशा नकारात्‍मक रहने वाले व्‍यक्ति की मदद कभी नहीं करनी चाहिए.

…इसलिए नहीं करें इन लोगों की मदद

मूर्ख व्यक्ति – चाणक्‍य नीति के अनुसार मूर्ख व्‍यक्ति को कुछ भी समझाना या ज्ञान देना पत्‍थर को समझाने जैसा है. ऐसा व्‍यक्ति खुद तो कभी नहीं सुधरेगा, बल्कि उसकी संगत में आकर आप अपना ही समय और ऊर्जा बर्बाद करेंगे. ऐसे व्‍यक्ति से दूर रहना ही बेहतर है.

यह भी पढ़ें:दैनिक राशिफल 28 जनवरी 2023 : जानिए सभी राशियों के लिए कैसा रहेगा आपका शनिवार का दिन !

दुष्‍ट महिला या पुरुष – दुष्‍ट महिला या पुरुष से दूर रहना ही बेहतर है क्‍योंकि ऐसे इंसान की आप कितनी भी भलाई करें, वो अपने स्‍वभाव से बाज नहीं आएगा. बल्कि वो मौका मिलते ही आपको नुकसान पहुंचाएगा. वहीं दुष्‍ट या चरित्रहीन महिला का साथ आपके जीवन को जहन्‍नुम बना देगा, साथ ही आपके परिवार की समाज में बदनामी भी कराएगा. इसके अलावा ऐसे परिवार में जन्‍मी संतान भी संस्‍कारहीन होती है.

नकारात्‍मक व्‍यक्ति- ऐसा व्‍यक्ति जो हमेशा निराश या नकारात्‍मक रहता हो, उससे कोसों दूर रहना चाहिए. ऐसा व्‍यक्ति अपनी नकारात्‍मक सोच के कारण खुद तो दुखी और असफल जीवन जिएगा ही, साथ ही आपको भी नकारात्‍मक बनाकर आपका जीवन भी दुखी बना देगा. क्‍योंकि व्‍यक्ति की सोच जैसी होती है, उसका जीवन भी वैसा ही हो जाता है.

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. visitorplacesofindia इसकी पुष्टि नहीं करता है.