July 10, 2024

Visitor Place of India

Tourist Places Of India, Religious Places, Astrology, Historical Places, Indian Festivals And Culture News In Hindi

Bhupendra Singh: यूपी बीजेपी के नए प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी बने, मिशन 2024 के लिए पार्टी ने खेला बड़ा दांव !

Bhupendra Singh: यूपी बीजेपी के नए प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी बने, मिशन 2024 के लिए पार्टी ने खेला बड़ा दांव !

लखनऊ: योगी के नेतृत्व वाली यूपी सरकार ने अपना नया प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है. उत्तर प्रदेश में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष (यूपी बीजेपी) के नाम को लेकर लंबे समय से चल रही अटकलें अब खत्म हो गई हैं. बीजेपी ने राज्य में नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम का ऐलान कर दिया है. भाजपा महासचिव अरुण सिंह की ओर से गुरुवार को जारी एक पत्र में नाम की घोषणा की गई है। पार्टी ने यूपी की कमान भूपेंद्र सिंह चौधरी को सौंपी है. भूपेंद्र सिंह चौधरी योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं. उन्होंने बुधवार को ही दिल्ली में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की थी. इसके बाद से उनके नाम की चर्चा तेज हो गई थी. भूपेंद्र चौधरी पश्चिमी यूपी के जाट समाज से आते हैं. माना जा रहा है कि बीजेपी ने मिशन 2024 के लिए सूबे में क्षेत्रीय और जातीय दोनों ही संतुलन बनाने के लिए ये बड़ा दांव खेला है.

यूपी में बीजेपी के नए प्रदेश अध्यक्ष को लेकर लंबे समय से अटकलें चल रही थीं. इस दौरान राज्य के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, दिनेश शर्मा, श्रीकांत शर्मा, बस्ती से सांसद हरिश द्विवेदी, कन्नौज से सांसद सुब्रत पाठक और केंद्रीय मंत्री बीएल वर्मा के नाम प्रमुखता से चल रहा था. लेकिन तमाम अटकलों के बीच आखिरकार बीजेपी यहां पार्टी के नए अध्यक्ष का एलान कर दिया है.

चौधरी के पार्टी का नया प्रदेश अध्यक्ष बनने के कयास तब से लगने शुरू हो गए थे जब वह अपने आजमगढ़ दौरे को बीच में छोड़कर दिल्ली पहुंचे थे. 25 अगस्त को चौधरी की दिल्ली में बीजेपी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से उनके आवास पर मुलाकात हुई, जिसके बाद पार्टी की तरफ से आधिकारिक तौर पर चौधरी को बीजेपी को उत्तर प्रदेश अध्यक्ष घोषित किया गया.

साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव काफी अहम माना जा रहा है.

बता दें इससे पहले उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के ‘संगठन सरकार से बड़ा है’ के ट्वीट के बाद उनके नाम की चर्चा होने लगी थी. हालांकि उन्हें ये जिम्मेदारी नहीं दी गई.

कौन हैं भूपेंद्र चौधरी?

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ कि दोनों सरकारों में मंत्री रहे भूपेंद्र सिंह चौधरी का संगठन में तीन दशक से ज्यादा का अनुभव है. पार्टी में इनका कद प्रभावशाली जाट नेताओं में है और इनके पार्टी अध्यक्ष बनने से यह कयास लगाए जा रहे हैं कि भाजपा किसान आंदोलन की वजह से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में खोई जमीन तलाशने की कोशिश कर रही है. इसके अलावा, संगठन और सरकार में उनके अनुभव की वजह से समन्वय स्थापित करने में चौधरी कारगर साबित हो सकते हैं.

पीतल नगरी मुरादाबाद के काठ विधानसभा में जन्मे भूपेंद्र सिंह चौधरी उत्तर प्रदेश सरकार में पंचायती राज मंत्री हैं. वह उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य भी हैं. भूपेंद्र सिंह को 10 जून 2016 को उत्तर प्रदेश विधान परिषद का सदस्य चुना गया था. भूपेंद्र सिंह चौधरी का जन्म मुरादाबाद जिले के ब्लॉक छजलैट इलाके के ग्राम महेंद्री सिंकदरपुर में हुआ था. किसान परिवार में जन्मे भूपेंद्र चौधरी ने मुरादाबाद में रहकर अपनी शिक्षा हासिल की है. मुरादाबाद में इंटरमीडिएट तक जनपद में शिक्षा हासिल की है.

चौधरी भूपेंद्र सिंह छात्र जीवन में विश्व हिंदू परिषद से जुड़े और फिर वर्ष 1991 में उन्‍होंने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ली. इसके दो साल बाद 1993 में वह बीजेपी की जिला कार्यकारिणी के सदस्य बन गए. साल 2006 में उन्हें भारतीय जनता पार्टी ने मुरादाबाद का क्षेत्रीय मंत्री बनाया, इसके बाद 2012 में पार्टी का क्षेत्रीय अध्यक्ष बनाया गया. साल 2016 में चौधरी भूपेंद्र सिंह को भारतीय जनता पार्टी ने एमएलसी नामित किया. उत्तर प्रदेश में साल 2017 में बीजेपी की सरकार बनने के बाद चौधरी भूपेंद्र सिंह को पंचायती राज का अध्यक्ष बनाकर राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया.

लोकसभा चुनाव में मुलायम सिंह यादव से हार मिली थी
साल 1999 के लोकसभा चुनाव में भूपेंद्र सिंह को भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा का टिकट देकर संभल से चुनाव लड़ाया था. इस चुनाव में चौधरी भूपेंद्र सिंह समाजवादी पार्टी के संरक्षक व पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव से हार गए थे.

2022 विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने चौधरी भूपेंद्र सिंह को दूसरी बार भी एमएलसी नामित किया गया. इस बार भी उत्तर प्रदेश सरकार में उनको पंचायती राज मंत्री बनाकर कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है.